News Plus

दिल्ली यूनिवर्सिटी में पहले दिन ही हुए दो हजार से अधिक दाखिले

दिल्ली यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गयी है, डीयू के प्रशाषनिक अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि 2,758 दाखिले के लिए प्रोसेस शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक करा दिए गए थे, प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली यूनिवर्सिटी में शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए दाखिले शुरू हो गए हैं, पहली कट-ऑफ से बाद, दाखिल के पहले दिन दिल्ली यूनिर्सिटी के अलग-अलग कॉलेजों में कुल 2,758 स्टूडेंट्स ने दाखिले लिए, कुल 2,750 सीटों पर हुए दाखिलों में से 1,496 दाखिले अप्रूव हो गए हैं,  जिसका मतलब है कि इतने स्टूडेंट्स ने फीस भी जमा कर दी है।

 

डीयू के मीडिया से सम्बंधित अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि 2,758 दाखिले के लिए प्रोसेस शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक करा दिए गए थे, डीयू ने अंडरग्रेजुएट कोर्स में दाखिले के लिए पहली कट-ऑफ लिस्ट गुरुवार रात को जारी की थी। सबसे हाई कट-ऑफ निकालने के मामले में हिंदू कॉलेज आग रहा, हिंदू कॉलेज के पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स की कट-ऑफ 99% है. इसमें पिछले साल की तुलना में मामूली वृद्धि हुई है।

 

हिंदू कॉलेज की प्रिंसिपल अंजू श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार को उनके कॉलेज में 310 दाखिले हुए. जिसमें से 31 स्टूडेंट्स ने पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स में दाखिला लिया. पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स के लिए कुल 43 सीटें थीं,  BSc (Honours) Physics के लिए 63 सीट्स थी, जिसमें से 53 सीट्स भर चुकी हैं.

 

उन्होंने कहा दाखिले के पहले दिन सभी कोर्सेज में दाखिले हुए।

 

लेडी श्री राम कॉलेज की प्रिंसिपल सुमन शर्मा ने कहा कि छात्रों की अभूतपूर्व प्रतिक्रिया थी, वे अभी भी दाखिले का डेटा का संकलन कर रहे थे, Shri Ram College of Commerce में 135 सीटों में से 75 दाखिले BA (Honours) Economics के लिए हुए. B.Com (Honours) के लिए वहां कुल 552 सीट्स में 200 सीटें भर गईं।

 

हंसराज कॉलेज में 89 स्टूडेंट्स ने साइंस स्ट्रीम के कोर्सेज में दाखिले लिए, जबकि कॉमर्स और साइंस कोर्सेज में 79 स्टूडेंट्स ने एडमिशन लिया।

स्कूल की छत का प्लास्टर गिरा , बाल बाल बचे नौनिहाल

अमावा (रायबरेली) : जिले के एक प्राइमरी स्कूल में आज सुबह उस वक्त अफरातफरी मच गई जब एक कमरे की छत का प्लास्टर भरभराकर गिर गया।  शुक्र है कि सभी बच्चे बाल बाल बच गए। मामला अमावा ब्लाक के पहाड़पुर गांव के प्राथमिक विद्यालय का है जहाँ ये हादसा हुआ। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार की सुबह बच्चों को उनकी ड्रेस बांटी की जा रही थी। तभी अचानक एक कमरे की छत का प्लास्टर गिर गया। कुछ ही देर पहले बच्चों को कमरे से बाहर लाया गया था । यदि कुछ देर पहले कमरे का प्लास्टर टूट कर गिरता तो शायद कुछ बच्चों को भी चोट लग सकती थी। प्रधानाध्यापक भारद्वाज ने यह भी बताया कि इसी वर्ष इस विद्यालय का कायाकल्प भी हुआ है । इसके बावजूद प्लास्टर गिर गया इस विद्यालय में 63 बच्चे पंजीकृत हैं जिसमें से आज 40 बच्चे ही उपस्थित थे। प्र ग्राम प्रधान मथुरा प्रसाद यादव का कहना है कि विद्यालय की छत का काम नहीं करवाया गया था। प्लास्टर पुराना होने की वजह से प्लास्टर गिर गया होगा। 
बेसिक शिक्षा अधिकारी पी एन सिंह ने बताया कि मामला संज्ञान में है।  जांच कराई जा रही है। बच्चों की सुरक्षा के साथ कोई खिलवाड़ नहीं किया जाएगा। 

उपहार स्वरूप पेड़ पौधे हमें आजीवन देते हैं प्राणवायु 

रायबरेली - शिवगढ़ क्षेत्र के पूर्व माध्यमिक विद्यालय गूढ़ा में इंचार्ज प्रधानाध्यापिका अनीता, वरिष्ठ अध्यापिका गीता बिष्ट, मधुलिका अस्थाना,राहुल वर्मा, अनुदेशक नीतू देवी एवं रश्मि ने विद्यालय प्रांगण में पीपल का भीड़ लगाकर स्वच्छ पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। जिससे प्रेरित होकर विद्यालय के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने पेड़ पौधों के संरक्षण के साथ ही प्रतिवर्ष पांच पौधे लगाने का संकल्प लिया। जिसके पश्चात विद्यालय कि इंचार्ज प्रधानाध्यापिका अनिता ने पेड़ पौधों की महत्ता पर विस्तृत रूप से प्रकाश डालते हुए कहा कि पेड़ पौधों के बिना जीवन संभव नहीं है पेड़ पौधे प्राणियों द्वारा छोड़ी गई कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते हैं और उपहार स्वरूप हमें प्राणवायु के रूप में ऑक्सीजन देते हैं। हमेशा कहा जाता है एक पेड़ 10 पुत्र समान जिसका सबसे बड़ा मुख्य कारण है कि एक बेटा जो कुछ करता है अधिकांशत अपने परिवार और रिश्तेदारों गांव और समाज के लिए करता है। किंतु एक पौधा बगैर किसी भेदभाव के जीवन पर्यंत लोगों को प्राणवायु और छांव के रूप में शीतलता प्रदान करता है। जिस तरह से दिनोंदिन पर्यावरण असंतुलन बढ़ रहा है वह एक चिंता का विषय है। यदि हम अभी नहीं चेते तो भविष्य में दूरगामी परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। जिसके लिए हम सभी को सजग होना होगा और एक संकल्प के साथ पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण करना होगा। वहीं वरिष्ठ अध्यापिका गीता बिष्ट ने छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमें पेड़ पौधों से सीख लेनी चाहिए जो हमें बगैर किसी भेदभाव के हम सभी को फल, फूल, छांव और प्राणवायु प्रदान करते हैं। पेड़ों की भांति ही हमें बगैर किसी भेदभाव के सभी की सहायता करनी चाहिए। इस मौके पर हरिश्चंद्र सहित विद्यालय के सैकड़ों छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

'न्यूज़ प्लस' इम्पैक्ट : बच्चो से किताबें उठवाने वाला एनपीआरसी निलंबित

रायबरेली : 'न्यूज़ प्लस ' की खबर का बड़ा असर हुआ है। बच्चो से किताबें उठवाने वाले एनपीआरसी समन्वयक को बीएसए ने निलंबित कर दिया है। सोमवार को बच्चो से किताबें उठवाने का वीडियो वायरल हुआ था जिसे 'न्यूज़ प्लस' ने प्रमुखता से दिखाया था। उसके बाद जिलाधिकारी के निर्देश पर बीएसए ने एनपीआरसी समन्वयक धर्मेंद्र अवस्थी को निलंबित कर दिया। 
सोमवार को जब स्कूल खिले तो सीएम के निर्देश के अनुसार सभी स्कूलों में किताबे पहुंचाई जा रही थी।  शिवगढ़ ब्लॉक के एनपीआरसी से किताबें ब्लॉक के स्कूलों में भेजी जा रही थी लेकिन वहां पर स्कूली बच्चें किताबों के बण्डल सर पर लादकर पिकअप में रख रहे थे।  इस घटना का वीडियो वायरल हुआ तो एनपीआरसी में हड़कंप मच गया। 'न्यूज़ प्लस ' ने इस खबर को प्रमुखता से उठाया था।  
जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने 'न्यूज़ प्लस ' की खबर का संज्ञान लेते हुए बीएसए को निर्देश दिए कि घटना जांच के बाद जिम्मेदारों पर कड़ी कार्यवाई की जाये। बीएसए पी एन सिंह ने जांच में मामला सही पाया और उन्होंने देर शाम एनपीआरसी समन्वयक धर्मेंद्र अवस्थी को निलबित कर दिया।

तीन घंटे से कम समय में पहुँच गए आगरा से लखनऊ तो कट जाएगा चालान 

दिल्ली यूनिवर्सिटी में पहले दिन ही हुए दो हजार से अधिक दाखिले

दिल्ली यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गयी है, डीयू के प्रशाषनिक अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि 2,758 दाखिले के लिए प्रोसेस शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक करा दिए गए थे, प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली यूनिवर्सिटी में शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए दाखिले शुरू हो गए हैं, पहली कट-ऑफ से बाद, दाखिल के पहले दिन दिल्ली यूनिर्सिटी के अलग-अलग कॉलेजों में कुल 2,758 स्टूडेंट्स ने दाखिले लिए, कुल 2,750 सीटों पर हुए दाखिलों में से 1,496 दाखिले अप्रूव हो गए हैं,  जिसका मतलब है कि इतने स्टूडेंट्स ने फीस भी जमा कर दी है।
डीयू के मीडिया से सम्बंधित अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि 2,758 दाखिले के लिए प्रोसेस शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक करा दिए गए थे, डीयू ने अंडरग्रेजुएट कोर्स में दाखिले के लिए पहली कट-ऑफ लिस्ट गुरुवार रात को जारी की थी। सबसे हाई कट-ऑफ निकालने के मामले में हिंदू कॉलेज आग रहा, हिंदू कॉलेज के पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स की कट-ऑफ 99% है. इसमें पिछले साल की तुलना में मामूली वृद्धि हुई है।
हिंदू कॉलेज की प्रिंसिपल अंजू श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार को उनके कॉलेज में 310 दाखिले हुए. जिसमें से 31 स्टूडेंट्स ने पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स में दाखिला लिया. पॉलीटिकल साइंस ऑनर्स के लिए कुल 43 सीटें थीं,  BSc (Honours) Physics के लिए 63 सीट्स थी, जिसमें से 53 सीट्स भर चुकी हैं.
उन्होंने कहा दाखिले के पहले दिन सभी कोर्सेज में दाखिले हुए।
लेडी श्री राम कॉलेज की प्रिंसिपल सुमन शर्मा ने कहा कि छात्रों की अभूतपूर्व प्रतिक्रिया थी, वे अभी भी दाखिले का डेटा का संकलन कर रहे थे, Shri Ram College of Commerce में 135 सीटों में से 75 दाखिले BA (Honours) Economics के लिए हुए. B.Com (Honours) के लिए वहां कुल 552 सीट्स में 200 सीटें भर गईं।
हंसराज कॉलेज में 89 स्टूडेंट्स ने साइंस स्ट्रीम के कोर्सेज में दाखिले लिए, जबकि कॉमर्स और साइंस कोर्सेज में 79 स्टूडेंट्स ने एडमिशन लिया।

दिल्ली में नर्सरी स्कूलों में एडमिशन पाने के लिए एक और अवसर

 


निजी स्कूलों में दाखिले के लिए दिल्ली में जो अभिभावक इंतजार कर रहे हैं उनके लिए एक और मौका आ गया गया है, दिल्ली शिक्षा निदेशालय एक बार फिर नर्सरी में एडमिशन का मौका दे रही है।
यह खुशखबरी हैं अभिभावकों के लिए है जिनके बच्चों को अभी तक प्रवेश नहीं मिल पाया है वह अभिभावक अब फिर से आवेदन कर सकते हैं मगर यह मौका सिर्फ इकनॉमिकली वीकर सेक्शन (ईडब्ल्यूएस) और डिस्एडवांटेज ग्रुप (डीजी) के लिए ही मान्य है। दरअसल इकनॉमिकली वीकर सेक्शन (ईडब्ल्यूएस) और डिस्एडवांटेज ग्रुप (डीजी) ग्रुप में अभी 2800 सीटें खाली हैं, इन सीटों को भरने के लिए दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने दोबारा आवेदन प्रकिया शुरू की है। निदेशालय ने बीती रात तक उन स्कूलों और सीटों की लिस्ट निदेशालय वेबसाइट में अपलोड कर दी है, जहां सीटें खाली हैं। अब इसके बाद 26 जून से ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भरने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है, ये आवेदन पत्र 3 जुलाई तक फॉर्म भरे जा सकेंगे, इसके लिए 9 जुलाई को कंप्यूटराइज्ड ड्रॉ निकाला जाएगा।
अभिभावकों को कोई परेशानी न हो इसके लिए निदेशालय की तरफ से डीओई की हेल्पलाइन बनाई गई है और अभिभावक 8800355192 और 9818154069 पर 10 बजे से 5 बजे के बीच (सोमवार से शुक्रवार) फोन पर शिकायत कर सकते हैं तथा doept.delhi.gov.in में जाकर शिकायत पोर्टल पर शिकायत या सलाह ले सकते हैं।